कुछ ऐसे Imam-Ul-Haq का दर्द छलका पक्षपात और भाई-भतीजावाद के आरोपों पर

Updated: 29 September 2019 18:46 IST

इमाम-उल-हक (Imam Ul Haq) की कहानी बहुत ही दिलचस्प है. उनके अंतरराष्ट्रीय करियर पर आलोचक लगातार उंगली उठाते रहे हैं, तो उन्हें पक्षपात के आरोप सहने पड़ते हैं, लेकिन व्हाइट-बॉल क्रिकेट में उनके रिकॉर्ड को लेकर यदा-कदा ही चर्चा होती है. इमाम कहते हैं कि यह बात मुझे बहुत ही सालती है

Imam Ul HaQ ही नहीं, कई और हस्तियों को ऐसे दर्द से दो-चार होना पड़ा है.

इस्लामाबाद:

पाकिस्तान के मिड्ल ऑर्डर लेफ्टी बल्लेबाज इमाम-उल-हक ने एक इंटरव्यू में अपना दर्द के दिल बयां किया है. इमाम (Imam ul Haq)ने कहा कि हालिया सालों में उनकी एक छवि गढ़ दी गई है, जिसने भाई-भतीजावाद की गलत अवधारणा और एक जटिल या मुश्किल चरित्र को समझने में कमी के पहलुओं को बल प्रदान किया है. इमाम ने कहा कि छवि ऐसी गढ़ दी गई है कि महत्वकांक्षा और भावनाओं को गलती से अहंकार समझ लिया गया है. इमाम-उल-हक की सामान्य तौर पर आलोचना इस पहलू को लेकर ज्यादा होती रही है कि जो कुछ भी पोजीशन उन्हें मिली है, वह उन्हें अपने अंकल और पूर्व चीफ सेलेक्टर इंजमाम उल हक (Inzmam Ul Haq) के कारण मिली है. 

यह भी पढ़ें:  ...मतलब यह कि Ravi Shastri को फिर से पुनर्नियुक्ति की प्रक्रिया से गुजरना होगा

इमाम-उल-हक की कहानी बहुत ही दिलचस्प है. उनके अंतरराष्ट्रीय करियर पर आलोचक लगातार उंगली उठाते रहे हैं, तो उन्हें पक्षपात के आरोप सहने पड़ते हैं, लेकिन व्हाइट-बॉल क्रिकेट में उनके रिकॉर्ड को लेकर यदा-कदा ही चर्चा होती है. इमाम कहते हैं कि यह बात मुझे बहुत ही सालती है. इमाम-उल-हक ने कहा कि मैं चाहता हूं कि लोग या मेरी आलोचना करने वाले जानें कि असल इमाम-उल-हक कौन हैं. यह एक ऐसा उद्देश्य है, जिसे इमाम बार-बार दोहराते रहते हैं.

यह भी पढ़ें:  इस वजह से Shanta Rangaswami ने दिया CAC की सदस्यता से इस्तीफा

इमाम ने कहा कि जब मैं बल्लेबाजी के लिए मैदान पर जाता हूं, तो बहुत सी बातें मेरे जहन में रहती हैं. मैं एक भावनात्मक इंसान हूं. मैं एक आक्रामक शख्सियत हूं, जो लोगों को जवाब देना चाहता हूं.  उन्होंने कहा कि जब पाकिस्तान हारता है, तो वह बहुत ज्यादा रोते हैं. अगर लोग बाबर आजम, यासिर शाह या मोहम्मद आमिर की आलोचना करते हैं, तो उन्हें बहुत ही पीड़ा होती है. मुझे पीड़ा होती है, जब यह कहा जाता है कि मैं अपने अंकल इंजाम के कारण इतनी क्रिकेट खेल पाया. 

यह भी पढ़ें:  बांग्लादेश महिला टीम की कोच Anju Jain ने किया पाकिस्तान दौरे पर जाने से इनकार

इमाम ने कहा कि मैं जानता हूं कि इस टीम में होना कितना ज्यादा मुश्किल है और कितनी मुश्किलें हमें टीम में बने रहने के लिए सहनी पड़ती हैं. मैं जानता हूं कि लोग हमें प्यार करते हैं. जब हम जीते हैं, तो प्रशंसक दुनिया से बाहर के लोग दिखाई पड़ते हैं, लेकिन हमें इस तथ्य पर ध्यान केंद्रित करना होता है कि यह सिर्फ खेल है. यह युद्ध नहीं है. मैं पाकिस्तानी लोगों से कहना चाहता हूं कि मैं उनसे प्यार करता हूं

VIDEO:  धोनी के  संन्यास की खबरों पर युवा क्रिकेटरों के विचार सुन लीजिए.

इमाम ने कहा कि लोग कुछ भी कहें, मैं इसे स्वीकार करूंगा और उन्हें खुश करने की कोशिश करूंगा. 

Comments
हाईलाइट्स
  • सालों से दर्द झेल रहे हैं इमाम-उल-हक
  • मुझे लोगों की बातों से पीड़ा होती है-इमाम
  • लोग कुछ भी कहें, मैं स्वीकार करूंगा
संबंधित खबरें
कुछ ऐसे Imam-Ul-Haq का दर्द छलका पक्षपात और भाई-भतीजावाद के आरोपों पर
कुछ ऐसे Imam-Ul-Haq का दर्द छलका पक्षपात और भाई-भतीजावाद के आरोपों पर
लड़कियों से अश्‍लील बातें करने वाले पाकिस्‍तानी ओपनर इमाम उल हक को लगी फटकार, मांगनी पड़ी माफी..
लड़कियों से अश्‍लील बातें करने वाले पाकिस्‍तानी ओपनर इमाम उल हक को लगी फटकार, मांगनी पड़ी माफी..
World Cup 2019, PAK vs AUS: पाक  ओपनर इमाम-उल-हक ने दिया मिशेल स्टॉर्क को चैलेंज
World Cup 2019, PAK vs AUS: पाक ओपनर इमाम-उल-हक ने दिया मिशेल स्टॉर्क को चैलेंज
इमाम उल हक की चोट गंभीर नहीं होने से पाकिस्‍तान टीम को राहत लेकिन इस बात की सता रही चिंता..
इमाम उल हक की चोट गंभीर नहीं होने से पाकिस्‍तान टीम को राहत लेकिन इस बात की सता रही चिंता..
Advertisement