गौतम गंभीर ने अंबाती रायुडु को टीम से बाहर करने पर भारतीय मैनेजमेंट को सुनाई खरी-खरी

Updated: 09 August 2018 17:33 IST

गंभीर ने कहा कि किसी भी खिलाड़ी के राष्ट्रीय टीम में चयन का बड़ा आधार उसका प्रदर्शन ही होना चाहिए. उन्होंने कहा कि अगर अंबाती रायुडु जैसा कोई भी खिलाड़ी अगर फिटनेस के लिए तय मानक को नहीं छू पा रहा है, तो इसकी देखभाल का जिम्मा टीम के फिटनेस ट्रेनर का है.

Guatam Gabhir lashes out at Indian team management the way it dropped to Ambati Rayudu from Indian team
गौतम गंभीर की फाइल फोटो

नई दिल्ली:

पूर्व ओपनर गौतम गंभीर ने कहा है कि टीम इंडिया में किसी खिलाड़ी के चयन का बड़ा मानस उसका प्रदर्शन ही होना चाहिए. एक कार्यक्रम में गौतम गंभीर ने फिटनेस के नए मानक (यो-यो टेस्ट, 16.1 अंक) को छूने में नाकाम रहे कुछ खिलाड़ियों को पिछले दिनों टीम से ड्रॉप करने के लिए भारतीय टीम मैनेजमेंट की कड़ी आलोचना की. ध्यान दिला दें कि कि आईपीएल में धमाकेदार प्रदर्शन करने वाले अंबाती रायुडु का चयन भारतीय वनडे टीम में किया गया था, लेकिन यह मानक न छू पाने के कारण टीम में चयन के बावजूद उनका नाम हटा दिया गया था. पहले कई खिलाड़ियों के इस मुद्दे पर बीसीसीआई की आलोचना के बाद अब गौतम गंभीर ने भी इस तरीके को गलत बताया है.

गंभीर ने कहा कि किसी भी खिलाड़ी के राष्ट्रीय टीम में चयन का बड़ा आधार उसका प्रदर्शन ही होना चाहिए. उन्होंने कहा कि अगर अंबाती रायुडु जैसा कोई भी खिलाड़ी अगर फिटनेस के लिए तय मानक को नहीं छू पा रहा है, तो इसकी देखभाल का जिम्मा टीम के फिटनेस ट्रेनर का है. लेकिन इससे भी ज्यादा महत्वपर्ण बात प्रदर्शन है. गौतम ने कहा कि अगर कोई खिलाड़ी यो-यो टेस्ट में 15 का स्कोर कर रहा है, उसका स्कोर बढ़ाने और इसे 16.1, या तय मानक पर पर ले जाने की जिम्मेदारी ट्रेनर की है. अगर पूरी तरह फिट खिलाड़ियों को ही टीम में लिया जा रहा है, तो फिर ट्रेनर का टीम में क्या काम है.

यह भी पढ़ें: IND vs ENG: विराट कोहली जल्द बनेंगे सबसे बड़े 'भारतीय विजेता', सचिन और पोंटिंग को पीछे छोड़ा

गौतम ने कहा कि अंबाती रायुडु को सिर्फ यो-यो टेस्ट पास करने में नाकाम रहने के चलते ही टीम से बाहर नहीं किया जाना चाहिए था. राष्ट्रीय टीम में वापसी के लिए रायुडु ने बड़ी संख्या में रन बनाए थे. ऐसे में अंबाती रायुडु को यो-यो टेस्ट पास करने के लिए जरूरी स्कोर हासिल करने के लिए और ज्यादा समय दिया जाना चाहिए था. गंभीर बोले कि अगर रायुडु का स्कोर 14.5 के आस-पास था, तो टीम मैनेजमेंट को उन्हें टीम के ट्रेनर के साथ काम करने के लिए एक महीने का समय देना चाहिए था, जिससे वह अपनी फिटनेस में सुधार कर सकें. अगर वह इतने पर भी अपने स्कोर में सुधार नहीं कर पाते, तो ही रायुडु को टीम से बाहर करना बेहतर होता.

VIDEO: सुनिए अजय रात्रा क्या कह रहे हैं विराट कोहली के बारे में.

गंभीर ने सवाल खड़ा करते हुए कहा कि कौन जानता है कि अगर रायुडु भारतीय टीम के मिड्ल ऑर्डर का हिस्सा होते, तो भारत इंग्लैंड के खिलाफ वनडे सीरलीज 2-1 के अंतर से जीत जाता
 

Comments
हाईलाइट्स
  • राष्ट्रीय टीम में चयन का बड़ा आधार प्रदर्शन ही हो- गंभीर
  • फिटनेस का स्तर ऊंचा ले जाने की जिम्मेदारी ट्रेनर की
  • अंबाती रायुडु के साथ सही बर्ताव नहीं हुआ
संबंधित खबरें
जब बिंदी लगाए और दुपट्टा ओढ़े दिखे गौतम गंभीर, वजह पता लगी तो हर किसी ने की प्रशंसा..
जब बिंदी लगाए और दुपट्टा ओढ़े दिखे गौतम गंभीर, वजह पता लगी तो हर किसी ने की प्रशंसा..
गौतम गंभीर ने अंबाती रायुडु को टीम से बाहर करने पर भारतीय मैनेजमेंट को सुनाई खरी-खरी
गौतम गंभीर ने अंबाती रायुडु को टीम से बाहर करने पर भारतीय मैनेजमेंट को सुनाई खरी-खरी
वीरेंद्र सहवाग और गौतम गंभीर को DDCA की समिति में स्‍थान, उठे यह सवाल...
वीरेंद्र सहवाग और गौतम गंभीर को DDCA की समिति में स्‍थान, उठे यह सवाल...
'आउटसाइडर' के टीम इंडिया में चयन पर गौतम गंभीर ने 'दिग्गजों' पर कसा 'जोरदार तंज'
दिल्‍ली के इस खिलाड़ी की मदद के कारण क्रिकेट में ऊंचाई छूते गए तेज गेंदबाज नवदीप सैनी...
दिल्‍ली के इस खिलाड़ी की मदद के कारण क्रिकेट में ऊंचाई छूते गए तेज गेंदबाज नवदीप सैनी...
Advertisement