Badminton: खेल से संन्‍यास के बाद कोचिंग में करियर बनाना चाहते हैं साइना नेहवाल के पति पी. कश्‍यप

Updated: 29 March 2019 12:51 IST

Parupalli kashyap: लंबे समय से फिटनेस को लेकर परेशान रहे पारुपल्‍ली कश्यप (Parupalli kashyap)ने कहा कि वह अब भी इसे लेकर पूरी तरह संतुष्ट नहीं हैं. उन्होंने कहा, ‘ईमानदारी से कहूं तो मैं अब भी अपनी फिटनेस को लेकर जूझ रहा हूं.

Player-coach Parupalli Kashyap believes he still has enough in the tank
Parupalli kashyap कॉमनवेल्‍थ गेम्‍स में भारत के लिए स्‍वर्ण पदक जीत चुके हैं (फाइल फोटो)

Parupalli kashyap: भारत के पूर्व नंबर एक खिलाड़ी पारूपल्ली कश्यप (Parupalli kashyap)ने बैडमिंटन से संन्‍यास लेने के बाद कोचिंग में करियर आगे बढ़ाने की इच्‍छा जताई है. कश्‍यप ने कहा कि पिछले कुछ समय से चोटों से परेशान रहने के बावजूद वह जितना अधिक संभव हो, अपने करियर को उतना आगे बढ़ाना चाहते हैं. बैडमिंटन से संन्‍यास लेने के बाद कोचिंग देने के लिए भी तैयार हैं. उन्‍होंने कहा कि पत्नी और दुनिया की पूर्व नंबर एक महिला एक खिलाड़ी साइना नेहवाल (Saina Nehwal)को कोचिंग देने से काफी मदद मिल रही है क्योंकि इससे उनके लिए खेल को समझना अधिक आसान हो गया है. कश्यप ने कहा, ‘‘मुझे कोचिंग करते हुए कोर्ट के पीछे बैठने से मदद मिल रही है. साइना को कोचिंग देने से मुझे काफी मदद मिल रही है.बाहर से खेल को समझना आसान होता है, आप खिलाड़ी को बता सकते हैं कि कहां गलती हो रही है.यह नया अनुभव है लेकिन काफी मददगार है.'उन्होंने कहा, ‘‘निश्चित तौर पर मेरी कोचिंग में रुचि है लेकिन उम्मीद करता हूं कि मैं अपने करियर को अधिक से अधिक लंबा खींचने में सफल रहूंगा. यह निश्चित है कि खेलना छोड़ने (Retirement) पर कोचिंग शुरू करूंगा क्योंकि मुझे नहीं लगता कि मैं खेल से दूर रह सकता हूं.' पिछले तीन साल में उम्मीद के मुताबिक प्रदर्शन नहीं कर पाने के बावजूद कश्यप ने ओलिंपिक में खेलने का सपना नहीं छोड़ा है. इस भारतीय खिलाड़ी ने एक साल से भी अधिक समय बाद बीडब्ल्यूएफ विश्व टूर में सुपर 500 या इससे बेहतर टूर्नामेंट के क्वार्टर फाइनल में जगह बनाई है. वह पिछली बार जनवरी-फरवरी में इंडिया ओपन के ही अंतिम आठ में चहुंचे थे.

Badminton: जब साइना नेहवाल ने कोर्ट को बताया खराब, खेलने से इनकार किया..

दुनिया के 55वें नंबर के खिलाड़ी कश्यप (Parupalli kashyap)ने कहा, ‘मैं लंबे समय तक अपने देश का नंबर एक खिलाड़ी रहा और ओलंपिक में नहीं खेल पाना मेरे लिए बड़ा झटका था.मैं कई बार यह कह चुका हूं. मैं इस साल अच्छा प्रदर्शन करना चाहता हूं और एक बार फिर ओलिंपिक में जगह बनाने का दावेदार बनना चाहता हूं. मैं सिर्फ इसमें हिस्सा नहीं लेना चाहता बल्कि पदक का दावेदार बनना चाहता हूं.'कश्यप ने कहा कि एकल में भारत के चार-पांच खिलाड़ी लगातार अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं. राष्ट्रमंडल खेलों के पूर्व चैंपियन कश्यप ने कहा, ‘मुझे लगता है कि भारत से जो भी ओलिंपिक के लिए क्वालीफाई करेगा वह पदक का दावेदार होगा.' कश्यप ने कहा कि वह अपनी रैंकिंग में सुधार करना चाहते हैं जिससे कि सुपर 750 और सुपर 1000 टूर्नामेंट में हिस्सा ले सकें. उन्होंने कहा, ‘मैं अपना सर्वश्रेष्ठ देना चाहता हूं और खुद को साबित करना चाहता हूं. उम्मीद करता हूं कि मैं सही समय पर फॉर्म हासिल करने में सफल रहूंगा. मैंने लंबे समय के बाद बड़े टूर्नामेंट के क्वार्टर फाइनल में जगह बनाई है. मैं रैकिंग में सुधार करना चाहता हूं क्योंकि मैं सुपर 1000, सुपर 750 टूर्नामेंटों के लिए क्वालीफाई नहीं कर पा रहा हूं क्योंकि मेरी रैंकिंग काफी अच्छी नहीं है. मैं आत्मविश्वास हासिल करना चाहता हूं क्योंकि मुझे पता है कि मेरे पास ऐसा खेल है जिससे मैं अच्छा प्रदर्शन कर सकता हूं लेकिन यह इस ckr पर निर्भर करेगा कि अगले कुछ समय तक मेरा शरीर मेरा साथ दे.'

पीवी सिंधु ने लड़ाकू विमान तेजस में भरी उड़ान, बना डाला 'यह रिकॉर्ड'

लंबे समय से फिटनेस को लेकर परेशान रहे कश्यप (Parupalli kashyap)ने कहा कि वह अब भी इसे लेकर पूरी तरह संतुष्ट नहीं हैं. उन्होंने कहा, ‘ईमानदारी से कहूं तो मैं अब भी अपनी फिटनेस को लेकर जूझ रहा हूं. मैं काफी टूर्नामेंटों में खेलने की कोशिश कर रहा हूं क्योंकि चोट के बाद 2016 और 2017 मेरे लिए काफी मुश्किल रहे जबकि 2018 में मैं बिलकुल भी लय हासिल नहीं कर पाया।'' कश्यप ने कहा, ‘पिछले साल दो बार मैं 12-12 हफ्तों के लिए टूर्नामेंटों में हिस्सा नहीं ले पाया और ना ही ट्रेनिंग कर पाया. पैर-पीठ की चोट से  काफी परेशान रहा.यह कभी ना कभी ठीक हो जाएगा लेकिन मैंने महसूस किया कि मैं टूर्नामेंटों में हिस्सा नहीं ले पा रहा हूं और सिर्फ ट्रेनिंग कर रहा हूं और इस दौरान चोटिल हो जा रहा हूं. इसलिए मैंने फैसला किया कि मैं टूर्नामेंटों में हिस्सा लूंगा और इस दौरान ट्रेनिंग भी करता रहूंगा.'कश्यप अब 32 बरस के हो चुके हैं और उन्होंने कहा कि वह समझ नहीं पा रहे हैं कि उन्हें अपने शरीर के अनुसार कैसी ट्रेनिंग करनी चाहिए.उन्होंने कहा, ‘‘मेरा शरीर अब वैसा नहीं रहा जैसा 25 बरस की उम्र में था.अगर मैं 20 या 25 बरस में जो करता था वह करने का प्रयास करूंगा तो नहीं कर पाऊंगा.यह मेरे लिए नई चीज है.मेरे पास इसका कोई जवाब नहीं है.मुझे नहीं लगता कि अपको कोई इस बारे में बता सकता है.गोपी सर के लिए इतने अनुभव के बावजूद मेरी स्थिति नई है क्योंकि मैं 30 बरस से अधिक उम्र का एकमात्र खिलाड़ी हूं.उन्होंने भी अपना करियर 30 साल से पहले 27 या 28 साल की उम्र में खत्म कर दिया था.'



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)
Comments
हाईलाइट्स
  • चोटों के कारण कश्‍यप का करियर रहा है प्रभावित
  • बोले, साइना को कोचिंग देने से मिल रही है मदद
  • लंबे समय तक पी. कश्‍यप रहे हैं देश के नंबर एक खिलाड़ी
संबंधित खबरें
Badminton: सैयद मोदी टूर्नामेंट के सेमीफाइनल में पहुंचे क‍िदांबी श्रीकांत और सौरभ वर्मा..
Badminton: सैयद मोदी टूर्नामेंट के सेमीफाइनल में पहुंचे क‍िदांबी श्रीकांत और सौरभ वर्मा..
Badminton: Parupalli Kashyap भी चीन ओपन से बाहर, संघर्ष के बाद विक्टर एक्सलसेन से हारे
Badminton: Parupalli Kashyap भी चीन ओपन से बाहर, संघर्ष के बाद विक्टर एक्सलसेन से हारे
BADMINTON: Satwiksairaj Rankireddy और  Chirag Shetty ने फ्रेंच ओपन के डबल्स के फाइनल में पहुंच कर रचा इतिहास
BADMINTON: Satwiksairaj Rankireddy और Chirag Shetty ने फ्रेंच ओपन के डबल्स के फाइनल में पहुंच कर रचा इतिहास
BADMINTON: कुछ ऐसे Kidambi Srikanth & P. Kashyap हो गए French Open के पहले दौर से ही बाहर
BADMINTON: कुछ ऐसे Kidambi Srikanth & P. Kashyap हो गए French Open के पहले दौर से ही बाहर
Badminton: संघर्ष के बाद PV Sindhu डेनमार्क ओपन के दूसरे दौर में पहुंचीं, पी. कश्यप बाहर
Badminton: संघर्ष के बाद PV Sindhu डेनमार्क ओपन के दूसरे दौर में पहुंचीं, पी. कश्यप बाहर
Advertisement