World Cup 2019: टीम इंडिया के खिलाड़ियों ने किया ड्रेसिंग रूम में 'धोनी के असर' का खुलासा

Updated: 04 July 2019 21:26 IST

World Cup 2019: इसमें कोई दो राय नहीं कि धोनी अब वैसे बल्लेबाज नहीं रह गए हैं, जिन्हें हम जानते हैं या जैसी छवि उनकी रही है. धोनी ने जारी वर्ल्ड कप के सात मैचों में 93 के स्ट्राइकरेट से 223 रन बनाए हैं. वास्तव में स्ट्राइक रेट धोनी का नहीं कहा जा सकता है. वैसे यह स्ट्राइकरेट हाल ही में उनकी स्ट्राइक रोटेट न कर पाने या बड़े शॉट न लगाने को बयां नहीं करता है

World Cup 2019:  Team India players reveals the
World Cup 2019: महेंद्र सिंह धोनी की फाइल फोटो

लीड्स:

इंग्लैंड में जारी वर्ल्ड कप (World Cup 2019) धीरे-धीरे अपने आखिरी दौर की तरफ बढ़ चला है. इसी बीच खबरें इसी फिजां में तैर रही हैं कि इस वर्ल्ड कप (World Cup 2019) में टीम इंडिया (Team India) का आखिरी मुकाबला धोनी का आखिरी अंतरराष्ट्रीय वनडे मैच हो सकता है. कुछ ही दिनों के भीतर माही 38 साल के हो जाएंगे. और बीसीसीआई के एक वरिष्ठ अधिकारी ने भी पहले से ही इशारा करते हुए यह कहा कि माही अपने फैसले से चाहने वालों को चौंका सकते हैं. बहरहाल, टीम इंडिया के कई खिलाड़ियों ने अपना नाम न बताने की शर्त पर विस्तार से यह बताया कि है धोनी का ड्रेसिंग रूम में कितना 'गहरा असर' है. 

यह भी पढ़ें: स वजह से आईसीसी और भारतीय टीम के बीच सुरक्षा को लेकर विवाद और गहराया

इसमें कोई दो राय नहीं कि धोनी अब वैसे बल्लेबाज नहीं रह गए हैं, जिन्हें हम जानते हैं या जैसी छवि उनकी रही है. धोनी ने जारी वर्ल्ड कप के सात मैचों में 93 के स्ट्राइकरेट से 223 रन बनाए हैं. वास्तव में स्ट्राइक रेट धोनी का नहीं कहा जा सकता है. वैसे यह स्ट्राइकरेट हाल ही में उनकी स्ट्राइक रोटेट न कर पाने या बड़े शॉट न लगाने को बयां नहीं करता है. लेकिन इस बात के लिए उनकी हालिया चौतरफा आलोचना हुई है. वहीं, कुछ लोगों ने माही की बतौर फिनिशर की क्षमता पर भी हाल में ही सवाल उठाया है. बहरहाल, टीम के साथी खिलाड़ियों के लिए धोनी अभी भी बहुत ही ज्यादा अहम और प्रभावशाली शख्सियत हैं. इन खिलाड़ियों का मानना है कि धोनी टीम के लिए बल्लेबाजी से कहीं ज्यादा मदद करते हैं. वह हालात को सबसे अच्छा पढ़ते हैं और हालात के हिसाब से खेलते हैं. 

यह भी पढ़ें:  इसलिए ऋषभ पंत को माइकल क्लार्क ने सर्वश्रेष्ठ नंबर चार विकल्प करार दिया, लेकिन...

टीम इंडिया के एक सदस्य ने कहा कि हमें ईमानदार होने की जरूरत है और जब बात बल्लेबाजी की आती है, तो हम इंग्लैंड टीम नहीं हैं. हमारे पास पुछल्ले बल्लेबाज हैं और जब माही भाई बैटिंग के लिए आते हैं, तो ज्यादातर मौकों पर उन्हें इस बात को जहन में रखना होता. माही भाई के पास वैसी स्वतंत्रता नहीं होती, जिस आजादी से बेन स्टोक्स खेलते हैं. वजह यह है कि इंग्लैंड के पास नंबर दस तक बैटिंग है, जो हमारे पास नहीं है. जब बांग्लादेश के खिलाफ वह आउट हुए, तो हमने आखिरी ओवर में दो विकेट गंवा दिए. 

यह भी पढ़ें:  यह सोने की सबसे छोटी वर्ल्ड कप ट्रॉफी बनी क्रिकेटप्रेमियों के बीच चर्चा का विषय

इस खिलाड़ी ने यह भी कहा कि धोनी का शांत मिजाज और उनका विशाल अनुभव कप्तान विराट कोहली को बहुत ज्यादा प्रभावित करता है. और उनकी सलाह युवा खिलाड़ियों को बहुत ही ज्यादा मदद पहुंचाती है. इस खिलाड़ी ने कहा कि जहां तक तक उनके मैदान पर अनुभव की बात है, तो वह एक ऐसे  शख्स हैं, जिनके पास हमारे हर सवाल का जवाब होता है.  अगर आपका प्लाए 'ए' काम नहीं करता, तो वह प्लान 'बी', 'सी' और 'डी' के बारे में बताते हैं. वास्तव में बांग्लादेश के खिलाफ भी आपने नोटिस किया होगा कि वह लगातार ऋषभ पंत को उन क्षेत्रों के बारे में बताते रहे, जहां उन्हें हिट लगाने चाहिए. वास्तव में अनुभव बाजार में नहीं मिलता. 

यह भी पढ़ें: संजय मांजरेकर के बयान पर भड़के 'सर' रवींद्र जडेजा, कहा-खिलाड़ि‍यों का सम्‍मान करना सीखिये

टीम इंडिया के एक और खिलाड़ी ने कहा कि धोनी की उपस्थिति यह सुनिश्चित करती है कि कोहली स्लॉग ओवरों में खुले दिमाग के साथ बाउंड्री पर फील्डिंग लगा सकते हैं. विराट भाई बाउंड्री पर खड़े हो सकते हैं और वह महत्वपूर्ण बाउंड्रियां रोक सकते हैं क्योंकि गेंदबाजो को दिशा-निर्देशित करने के लिए माही भाई विकेट के पीछे होते हैं. इसमें भी सबसे अच्छी बात यह है कि जब कुछ ओवरों के बाद हम मैदान पर उतरते हैं, तो माही भाई गेंदबाजों को बताते हैं कि किस क्षेत्र में गेंदबाजी करनी है. और कैसे बॉलर को अपनी गति और विविधता पर काम करने की जरूरत है. 

VIDEO:  भारत ने पाकिस्तान को 89 रन से मात दी थी. 

एक और तीसरे खिलाड़ी ने कहा कि धोनी के अनुभव का कोई विकल्प नहीं है. खिलाड़ियों का यह भी मानना है कि विश्व कप जैसे बड़े टूर्नामेंट में माही भाई की उपस्थिति भर ही टीम के आत्मविश्वास को बढ़ा देती है. चाहे यह फील्डिंग में छोटा बदलाव है या फिर बल्लेबाजी के दौरान खास एरिया को टारगेट करने की बात हो, हम जाने हैं कि माही भाई यहां हैं. उनके सुझाव इतने सटीक होते हैं कि आप पलक भी नहीं झपका सकते

Comments
हाईलाइट्स
  • धोनी की धीमी बैटिंग पर हो रही है आलोचना
  • मांजरेकर सहित कई पूर्व क्रिकेटरों ने उठाए थे सवाल
  • सहायक कोच संजय बांगड़ ने आलोचना पर जताई थी हैरानी
संबंधित खबरें
क्र‍िकेट में वापसी के सवाल पर MS Dhoni बोले,
क्र‍िकेट में वापसी के सवाल पर MS Dhoni बोले, 'जनवरी तक मत पूछो'
क्‍या MS Dhoni टी20 वर्ल्‍डकप की भारतीय टीम में होंगे, कोच Ravi Shastri ने द‍िया यह जवाब...
क्‍या MS Dhoni टी20 वर्ल्‍डकप की भारतीय टीम में होंगे, कोच Ravi Shastri ने द‍िया यह जवाब...
गौतम गंभीर का बड़ा खुलासा, एमएस धोनी के कारण 2011 वर्ल्ड कप के फाइनल में शतक नहीं बना सके
गौतम गंभीर का बड़ा खुलासा, एमएस धोनी के कारण 2011 वर्ल्ड कप के फाइनल में शतक नहीं बना सके
IND vs BAN 1st Test: ये शानदार रिकॉर्ड बने जीत में,  Virat Kohli ने  MS Dhoni को पीछे छोड़ा
IND vs BAN 1st Test: ये शानदार रिकॉर्ड बने जीत में, Virat Kohli ने MS Dhoni को पीछे छोड़ा
MS Dhoni ने की नेट्स में वापसी, जेएससीए स्टेडियम में किया अभ्यास
MS Dhoni ने की नेट्स में वापसी, जेएससीए स्टेडियम में किया अभ्यास
Advertisement