भारतीय टेनिस की बेहतरी के लिए पेस, भूपति और सानिया मिलकर काम करें: बोरिस बेकर

Updated: 19 February 2019 08:56 IST

बोरिस बेकर ने कहा, ‘भारत में टेनिस काफी लोकप्रिय है. शायद सानिया, भूपति और पेस जैसे खिलाड़ियों को कुछ करने की जरूरत है. मुझे पता है उनके बीच विवाद है लेकिन टेनिस के स्तर को सुधारने का यही एक तरीका है. जर्मनी और फ्रांस में भी ऐसा ही होता है पूर्व खिलाड़ी खेल प्रशासन में जाते है.’

Paes, Bhupathi, Mirza need to work together for growth of Indian tennis: Boris Becker
लिएंडर पेस, महेश भूपति और सानिया मिर्जा ने डबल्‍स वर्ग में भारत के लिए कई सफलताएं दर्ज कीं (फाइल फोटो)

मोनाको:

दिग्गज टेनिस खिलाड़ी बोरिस बेकर (Boris Becker) का मानना है कि भारतीय टेनिस के तीन बड़े खिलाड़ियों लिएंडर पेस (Leander Paes), महेश भूपति (Mahesh Bhupathi)और सानिया मिर्जा (Sania Mirza)को अपने मतभेद भुलाकर इस खेल को आगे बढ़ाने की दिशा में काम करना चाहिए. गौरतलब है कि पुरुष और महिला एकल वर्ग में इस समय भारत का कोई भी खिलाड़ी टॉप-50 में नहीं है. पिछले तीन दशक से एकल वर्ग में भारत एक भी विश्‍व स्‍तरीय खिलाड़ी नहीं दे सका. बेकर ने कहा तीनों (युगल विशेषज्ञों) को टेनिस को आगे ले जाने के लिए मिलकर काम करना होगा.

महान टेनिस खिलाड़ी बोरिस बेकर ने कहा, रोजर फेडरर और नडाल में अब भी दम...

जर्मनी के इस दिग्गज खिलाड़ी ने कहा, ‘टेनिस में भारत की सफलता का लंबा इतिहास रहा है. आपके पास बड़ी संख्या में खिलाड़ियों का पूल होना चाहिए ताकि उसमें से कोई आगे जाकर खिताब जीत सके. मौजूदा समय में मैं ऐसा होता नहीं देख रहा हूं. इसके साथ ही मैं यह भी कहूंगा कि हमें थोड़ा इंतजार करना चाहिए.'उन्होंने कहा, ‘भारत में टेनिस काफी लोकप्रिय है. शायद सानिया, भूपति और पेस जैसे खिलाड़ियों को कुछ करने की जरूरत है. मुझे पता है उनके बीच विवाद है लेकिन टेनिस के स्तर को सुधारने का यही एक तरीका है. जर्मनी और फ्रांस में भी ऐसा ही होता है पूर्व खिलाड़ी खेल प्रशासन में जाते हैं.'

बेकर ने बताया, सानिया मिर्जा इसलिए हर टूर्नामेंट के दौरान मुझसे साथ में लंच करने को कहती हैं..

इस मौके पर बेकर (Boris Becker) ने शानदार प्रदर्शन कर रहे सर्बियाई खिलाड़ी नोवाक जोकोविच की भी जमकर प्रशंसा की. बेकर ने कहा कि रोजर फेडरर के 20 ग्रैंडस्लैम खिताब के रिकॉर्ड को जोकोविच पीछे छोड़ सकते है. उन्होंने कहा कि इस सर्बियाई खिलाड़ी के पास अगले दो सत्र में यह उपलब्धि हासिल करने का मौका होगा. चोट से वापसी के बाद जोकोविच ने पिछले तीनों ग्रैंडस्लैम अपने नाम किये जिसमें ऑस्ट्रेलियाई ओपन का रिकॉर्ड सातवां खिताब भी शामिल है. फेडरर 37 साल के हो चुके हैं लेकिन वह अभी भी दमदार तरीके से खेल रहे है. ग्रैंडस्लैम खिताबों को 17 बार जीतने वाले राफेल नडाल भी चोट से उबरने के बाद ऑस्ट्रेलियाई ओपन के फाइनल में पहुंचे. उन्होंने लॉरेस विश्व पुरस्कार के मौके पर कहा, ‘इस बात की संभावना है कि जोकोविच फेडरर के रिकार्ड को तोड़ दे लेकिन इसके लिए उन्हें काफी मेहनत करनी होगी. यह सही है कि उन्होंने लगातार तीन ग्रैंडस्लैम में जीत दर्ज की लेकिन उससे पहले दो साल एक भी खिताब नहीं जीत सके थे.'बेकर 2014 से 2016 तक जोकोविच के कोच भी रहे थे जिस दौरान उन्होंने छह ग्रैंडस्लैम खिताब जीते. (इनपुट: एजेंसी)

वीडियो: तेलंगाना की ब्रांड एंबेसडर बनीं सानिया मिर्जा

Comments
हाईलाइट्स
  • कहा, आपके पास खिलाड़ि‍यों का बड़ा पूल होना जरूरी
  • पूर्व खिलाड़ी विदेशों में खेल प्रशासन में जाते हैं
  • अभी सिंगल्‍स में कोई भारतीय टेनिस के टॉप-50 में नहीं
संबंधित खबरें
Davis Cup: Leander Paes सहित अन्य शीर्ष खिलाड़ियों की भारतीय टीम में वापसी
Davis Cup: Leander Paes सहित अन्य शीर्ष खिलाड़ियों की भारतीय टीम में वापसी
TENNIS: ऐसा Leander Paes के साथ पिछले 19 साल में पहली बार हुआ
TENNIS: ऐसा Leander Paes के साथ पिछले 19 साल में पहली बार हुआ
TENNIS: नवंबर में होगा भारत व पाकिस्तान डेविस कप मुकाबला, लेकिन...
TENNIS: नवंबर में होगा भारत व पाकिस्तान डेविस कप मुकाबला, लेकिन...
MOTORSPORTS: ऐश्वर्या पिस्सी ने रचा इतिहास, मोटरस्पोर्ट में वर्ल्ड कप जीतने वाली पहली भारतीय बनीं
MOTORSPORTS: ऐश्वर्या पिस्सी ने रचा इतिहास, मोटरस्पोर्ट में वर्ल्ड कप जीतने वाली पहली भारतीय बनीं
DAVIS CUP: अगर भारत ने पाकिस्तान में खेलने से मना किया, तो झेलना होगा यह परिणाम
DAVIS CUP: अगर भारत ने पाकिस्तान में खेलने से मना किया, तो झेलना होगा यह परिणाम
Advertisement