अब सुप्रीम कोर्ट करेगा बीसीसीआई सीईओ राहुल जौहरी के खिलाफ यौन उत्पीड़न के आरोपों पर सुनवाई

Updated: 06 May 2019 23:40 IST

राकेश और बरखा ने अपनी जांच में जौहरी को क्लीन चिट दे दी थी, लेकिन वीना ने जौहरी के व्यवहार पर आपत्ति जताते हुए कहा था कि बर्मिंघम में जौहरी का व्यवहार एक बीसीसीआई जैसी संस्था के सीईओ के तौर पर गैरपेशेवर है जो संस्था की साख पर बट्टा लगा सकता है

Now Supreme Court hears the case against BCCI  CEO Rahul Johri for sexual harassment allegation
बीसीसीआई के सीईओ राहलु जौहरी की मुश्किलें अभी जारी हैं. © Rahul johri

नई दिल्ली:

सर्वोच्च न्यायालय ने सोमवार को कहा है कि वह बीसीसीआई के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) राहुल जौहरी पर लगे यौन उत्पीड़न आरोप को लेकर बिहार क्रिकेट संघ (सीएबी) द्वारा दायर की गई याचिका की सुनवाई जुलाई में करेगा. न्यायाधीश एस.ए. बोबडे और न्यायाधीश एस. अब्दुल नजीर की पीठ ने कहा, "सही पीठ के सामने याचिका को अन्य अपील के साथ सूचीबद्ध करें". सीएबी के सचिव आदित्य वर्मा ने अपनी याचिका में कहा है, "बीसीसीआई ने जौहरी के खिलाफ लगे यौन उत्पीड़न के आरोप को पूरी तरह से ठंडे बस्ते में डाल दिया है. स्थितियां साफ बताती हैं कि जौहरी को निर्दोष साबित करने की पूरी कोशिश की जा रही है और उन्हें (शिकायतकर्ता) जौहरी मामले में प्रशासकों की समिति (सीओए) द्वारा बनाई गई 'स्वतंत्र समिति' की रिपोर्ट भी नहीं सौंपी गई है"

इस मामले पर सीओए की रिपोर्ट को लेकर वर्मा ने कहा, "चूंकि मैं काफी सालों से बीसीसीआई के खिलाफ लड़ रहा हूं, मुझे यह देखकर काफी दुख होता है. साथ ही सीओए ने जिस तरह से शिकायतकर्ताओं के साथ सामाजिक तौर पर व्यवहार किया उसे देखकर हैरानी होती है". ध्यान दिला दें जौहरी मामले में विनोद राय की अध्यक्षता वाली सीओए ने एक स्वतंत्र समिति का गठन किया था जिसमें राकेश शर्मा (सेवानिवृत न्यायाधीश), बरखा सिंह और वीना गौड़ा थीं. 

यह भी पढ़ेंमहेंद्र सिंह धोनी की बेटी जीवा की वोट डालने की क्यूट अपील ने जीता लोगों को दिल, VIDEO

राकेश और बरखा ने अपनी जांच में जौहरी को क्लीन चिट दे दी थी, लेकिन वीना ने जौहरी के व्यवहार पर आपत्ति जताते हुए कहा था कि बर्मिंघम में जौहरी का व्यवहार एक बीसीसीआई जैसी संस्था के सीईओ के तौर पर गैरपेशेवर है जो संस्था की साख पर बट्टा लगा सकता है. इसे संबंधित अधिकारियों द्वारा देखा जाना चाहिए. स्वतंत्र समिति ने अपनी जांच पूरी कर सीओए को अपनी रिपोर्ट सौंप दी थी. इस रिपोर्ट को बीसीसीआई की वेबसाइट पर भी जारी किया गया था.

VIDEO: वर्ल्ड कप में पाकिस्तान के खिलाफ मुकाबले पर रविशंकर प्रसाद के विचार सुन लीजिए.

सीएबी के वकील जगनाथ सिंह ने कहा है कि बीसीसीआई की वेबसाइट पर जारी सीओए की रिपोर्ट से यह साफ पता चलता है कि सीओए के सिर्फ एक अधिकारी ने इस रिपोर्ट को कबूल किया है जबकि दूसरे सदस्य ने इस नामंजूर कर दिया है. 

Comments
हाईलाइट्स
  • याचिकाकर्ता ने लगाया बोर्ड जांच को ठंडे बस्ते में डालने का आरोप
  • जौहरी को निर्दोष साबित करने की कोशिश की जा रही
  • याचिकाकर्ता को बोर्ड ने नहीं सौंपी जांच रिपोर्ट
संबंधित खबरें
लोकपाल डीके जैन ने Sourav Ganguly को लेकर BCCI को दिया यह बड़ा निर्देश
लोकपाल डीके जैन ने Sourav Ganguly को लेकर BCCI को दिया यह बड़ा निर्देश
Virat Kohli ने कहा, कभी नहीं सोचा था कि ऐसा होगा
Virat Kohli ने कहा, कभी नहीं सोचा था कि ऐसा होगा
विराट कोहली के इस ट्वीट ने दिया MS Dhoni के संन्यास की अटकलों को बल
विराट कोहली के इस ट्वीट ने दिया MS Dhoni के संन्यास की अटकलों को बल
MS Dhoni के संन्यास की खबरों पर एमएसके प्रसाद का इनकार, पर...
MS Dhoni के संन्यास की खबरों पर एमएसके प्रसाद का इनकार, पर...
कुछ ऐसे परेशानी में फंस गए दिनेश कार्तिक, बीसीसीआई ने सात दिन के भीतर मांगा जवाब
कुछ ऐसे परेशानी में फंस गए दिनेश कार्तिक, बीसीसीआई ने सात दिन के भीतर मांगा जवाब
Advertisement