नए भारतीय बैटिंग कोच विक्रम राठौड़ को इन दो बल्लेबाजों में नजर आया मध्यक्रम की समस्या का समाधान

Updated: 06 September 2019 18:11 IST

राठौड़ ने कहा, "मैं एक ऐसा वातावरण बनाना चाहता हूं जहां खिलाड़ी गलतियां करने से डरें नहीं, जहां गलती करने वाले को छोटा न समझा जाए क्योंकि वे अभी सीख रहे हैं

New Indian batting coach Vikram Rathour finds the middle order solution in these two batsmen
विक्रम राठौड़ की फाइल फोटो

नई दिल्ली:

भारतीय क्रिकेट टीम के नए बल्लेबाजी कोच विक्रम राठौड़ (Vikram Rathour) ने कहा है कि आने वाले दिनों में टीम के मध्यक्रम से जुड़ी समस्या को सुलझाना होगा. विश्व कप के सेमीफाइनल में हारकर टीम के बाहर होने के कारण पूर्व कोच संजय बांगर को हटाने का निर्णय लिया गया और उनकी जगह राठौड़ (Vikram Rathour) को दी गई. राठौड़ ने कहा कि यह केवल विश्व कप की बारे में नहीं है. वनडे में मध्यक्रम इतना अच्छा नहीं कर रहा और हमें निश्चित रूप से इसका निपटारा करना चाहिए"

यह भी पढ़ें: स्टीव स्मिथ और विराट कोहली की तुलना को लेकर दिग्गज स्पिनर शेन वॉर्न ने जताई यह राय...

राठौड़ ने कहा, "श्रेयस अय्यर ने पिछले दो मैचों में काफी अच्छा प्रदर्शन किया है और हमारे पास मनीष पांडे भी हैं. इन दोनों खिलाड़ियों ने घरेलू क्रिकेट और इंडिया-ए के लिए काफी अच्छा प्रदर्शन किया है. ये ऐसे बल्लेबाज है जो अपना काम बखूबी करने के काबिल हैं और इसके बारे में कोई शक नहीं है."अय्यर ने वेस्टइंडीज के खिलाफ हुई वनडे सीरीज में नबर-5 पर बल्लेबाजी की और दो पारियों में 71 एवं 65 रन बनाए.

यह भी पढ़ें: इस वजह से अफगानिस्तान के अनुभवी मोहम्मद नबी ने लिया टेस्ट क्रिकेट से संन्यास का फैसला

राठौड़ ने कहा, "यह शीर्ष स्तर पर सही होने की बात है. हमें उनपर भरोसा दिखाने और उन्हें सही तैयारी कराने की आवश्यकता है ताकि वे अधिक समय तक वहां रह सकें. उनमें अच्छा करने के लिए पर्याप्त प्रतिभा है." वनडे में मध्यक्रम तो वहीं टेस्ट में सलामी बल्लेबाज हाल के समय में बेहतरीन प्रदर्शन करने में नाकाम रही है. लोकेश राहुल वेस्टइंडीज के खिलाफ जूझते नजर आए. राठौड़ ने कहा, "एक अन्य चिंता का विषय टेस्ट में सलामी बल्लेबाजों की भागीदारी है. हमारे पास विकल्प हैं और इसमें काफी स्वस्थ प्रतिस्पर्धा है। हमें उनके और अधिक निरंतर होने का तरीका ढूंढना होगा"

VIDEO: धोनी के संन्यास पर युवा क्रिकेटरों की राय सुन लीजिए. 

उन्होंने कहा, "मैं एक ऐसा वातावरण बनाना चाहता हूं जहां खिलाड़ी गलतियां करने से डरें नहीं, जहां गलती करने वाले को छोटा न समझा जाए क्योंकि वे अभी सीख रहे हैं. आप एक बार फेल हो सकते हैं, लेकिन आपको अपनी असफलताओं से सीखकर और बेहतर होना चाहिए"

Comments
हाईलाइट्स
  • मैं टीम में अलग वातावरण बनाना चाहता हूं-राठौड़
  • एक समस्या टेस्ट में सलामी बल्लेबाजों की भागीदारी
  • आने वाली सीरीज में मिड्ल ऑर्डर को सुलझाना होगा
संबंधित खबरें
IND vs SA: अब Rishabh Pant सहित सभी युवाओं को नए बैटिंग कोच Vikram Rathore ने दिया साफ संदेश
IND vs SA: अब Rishabh Pant सहित सभी युवाओं को नए बैटिंग कोच Vikram Rathore ने दिया साफ संदेश
नए भारतीय बैटिंग कोच विक्रम राठौड़ को इन दो बल्लेबाजों में नजर आया मध्यक्रम की समस्या का समाधान
नए भारतीय बैटिंग कोच विक्रम राठौड़ को इन दो बल्लेबाजों में नजर आया मध्यक्रम की समस्या का समाधान
Advertisement