गौतम गंभीर का बड़ा खुलासा, एमएस धोनी के कारण 2011 वर्ल्ड कप के फाइनल में शतक नहीं बना सके

Updated: 19 November 2019 00:03 IST

टी20 वर्ल्ड कप के फाइनल में गंभीर ने 75 रन का पारी खेली थी, लेकिन मैन ऑफ ध मैच इरफान पठान (4-0-16-3) ले उड़े. 2011 के फिफ्टी-50 विश्व कप में गौतम ने 97 रन बनाए, लेकिन एक बार फिर से धोनी के नाबाद 94 रन ने उनकी पारी को फीका करते हुए मैन ऑफ द मैच झटक लिया.

Gautam Gambhir
गौतम गंभीर व एमएस धोनी की फाइल फोटो

नई दिल्ली:

लेफ्टी बल्लेबाज गौतम गंभीर (Gautam Gambhir) ने एक निजी वेबसाइट से बातचीत में बड़ा खुलासा करते हुए कहा कि धोनी के कारण ही वह फाइनल में शतक नहीं बना सके थे. ध्यान दिला दें कि साल 2007 टी20 और फिर इसके बाद 2011 सहित दोनों विश्व कप के फाइनल में बहुत ही अहम पारियां खेली थीं, लेकिन गंभीर (Gautam Gambhir) के प्रशंसक मानते हैं कि उनके चहेते बल्लेबाज को इन दोनों ही पारियों के लिए श्रेय नहीं मिला.  टी20 वर्ल्ड कप के फाइनल में गंभीर ने 75 रन का पारी खेली थी, लेकिन मैन ऑफ ध मैच इरफान पठान (4-0-16-3) ले उड़े. 2011 के फिफ्टी-50 विश्व कप में गौतम ने 97 रन बनाए, लेकिन एक बार फिर से धोनी के नाबाद 94 रन ने उनकी पारी को फीका करते हुए मैन ऑफ द मैच झटक लिया.

यह भी पढ़ें:  बांग्लादेशी युवा सीमर अबु जाएद ने डे-नाइट टेस्ट से पहले मोहम्मद शमी से लिया "गुरु मंत्र"

गंभीर ने कहा कि वास्तव में मुझे इन दोनों वर्ल्ड कप के फाइनल में मैन ऑफ द मैच न मिलने की निराशा है, लेकिन मैं इस बात से खुश रहा कि मेरा योगदान टीम को खिताब दिलाने में मददगार रहा. उन्होंने कहा कि धोनी के याद दिलाने से पहले तक उन्हें अपने स्कोर का भान नहीं था. धोनी ने मुझे याद दिलाया कि मैं 97 के स्कोर पर हूं और मुझे शतक बनाने के लिए ध्यान और सतर्कता से बैटिंग करनी चाहिए. गौतम ने कहा कि मुझसे कई बार यह सवाल किया गया था कि जब वह 97 के स्कोर पर थे, तब क्या हुआ था. 

यह भी पढ़ेंविराट कोहली और अजिंक्य रहाणे डे-नाइट टेस्ट के लिए सबसे पहले पहुंचेंगे कोलकाता, लेकिन...

गंभीर ने कहा कि मैंने कभी भी अपने निजी स्कोर के बारे में नहीं सोचा, लेकिन मैं श्रीलंका के दिए लक्ष्य के बारे में लगातार सोच रहा था. मुझे याद है कि एक ओवर पूरा होने के बाद धोनी ने मुझसे कहा कि सिर्फ तीन रन बाकी बचे हैं. धोनी ने मुझसे ये तीन रन बनाने और शतक पूरा करने के लिए कहा. गंभीर ने कहा कि जिस समय धोनी ने शतक के बारे में याद दिलाया, इससे उनकी मनोस्थिति पर असर पड़ा और वह थिसारा परेरा की गेंद पर बड़ा शॉट लगाने की कोशिश में बोल्ड हो गए. जब अचानक से आपका ध्यान निजी उपलब्धि पर लग जाता है, तो आपके भीतर एक उत्तेजना पैदा हो जाती है. 

VIDEO: कुछ दिन पहले पीवी सिंधु ने एनडीटीवी से खास बात की थी. 

गंभीर ने कहा कि धोनी के याद दिलाने से पहले मेरा पूर ध्यान श्रीलंका के लक्ष्य पर था. अगर केवल वही लक्ष्य मेरे जहन में होता, तो मैं आसानी से अपना शतक पूरा कर लेता.  97 रन तक मैं वर्तमान में था. पर जब मैं तीन रन दूर था, तो शतक बनाने की चाह से पैदा हुई उत्तेजना मेरे ऊपर हावी हो गई. 
 

Comments
हाईलाइट्स
  • साल 2007 टी20 वर्ल्ड कप फाइनल में गंभीर के थे 75 रन
  • 2011 वर्ल्ड कप फाइनल में बनाए 97 रन
  • दोनों में मैन ऑफ द मैच न बन पाने का मलाल है
संबंधित खबरें
हैदराबाद गैंगरेप की घटना से क्र‍िकेट जगत में रोष,  व‍िराट कोहली सह‍ित अन्‍य क्र‍िकेटरों ने क‍िए ट्वीट
हैदराबाद गैंगरेप की घटना से क्र‍िकेट जगत में रोष, व‍िराट कोहली सह‍ित अन्‍य क्र‍िकेटरों ने क‍िए ट्वीट
ट‍िम पेन की डे-नाइट टेस्‍ट की चुनौती को व‍िराट कोहली को स्‍वीकार कर लेना चाहिए: गौतम गंभीर
ट‍िम पेन की डे-नाइट टेस्‍ट की चुनौती को व‍िराट कोहली को स्‍वीकार कर लेना चाहिए: गौतम गंभीर
अरुण जेटली स्‍टेड‍ियम में अब पूर्व ओपनर गौतम गंभीर के नाम पर भी स्‍टैंड..
अरुण जेटली स्‍टेड‍ियम में अब पूर्व ओपनर गौतम गंभीर के नाम पर भी स्‍टैंड..
गौतम गंभीर का बड़ा खुलासा, एमएस धोनी के कारण 2011 वर्ल्ड कप के फाइनल में शतक नहीं बना सके
गौतम गंभीर का बड़ा खुलासा, एमएस धोनी के कारण 2011 वर्ल्ड कप के फाइनल में शतक नहीं बना सके
गंभीर हंसी ! प्रशंसक बोले, वीवीएस लक्ष्मण ने प्राप्त कर लिया
गंभीर हंसी ! प्रशंसक बोले, वीवीएस लक्ष्मण ने प्राप्त कर लिया 'मिशन इम्पॉसिबल'
Advertisement