बीसीसीआई की वार्षिक आम बैठक 1 दिसंबर को, इन छह बहुत ही अहम बिंदुओं पर होगी चर्चा

Updated: 09 November 2019 22:56 IST

तीसरा बिंदु सदस्यों की अयोग्यता का है. अधिकारियों को लगता है कि मौजूदा स्थिति में अनुभव की कमी होना बड़ा मुद्दा है, खासकर अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) में बीसीसीआई के प्रतिनिधित्व को लेकर. प्रस्ताव में लिखा है, "अयोग्यता का नियम बहुत बड़ा है और अगर....

BCCI AGM takes place on 1 December, these crucial six points are going to be discussed
बीसीसीआई का लोगो

नई दिल्ली:

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) की वार्षिक आम बैठक बोर्ड के मुख्यालय मुंबई में एक दिसंबर को होगी. अध्यक्ष सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) के नेतृत्व वाले नए अधिकारियों ने सभी राज्य संघों को इस बारे में सूचित कर दिया है. इस बैठक में छह मुख्य पहलुओं पर चर्चा होगी. बीसीसीआई के एक सीनियर अधिकारी ने आईएएनएस से बात करते हुए कहा, "हां, यह एक दिसंबर को होनी है." अधिकारी संविधान के छह बिंदुओं को देखेंगे जिन पर दोबारा काम किया जाएगा क्योंकि अधिकारियों को लगता है कि कुछ ऐसी चीजें हैं जो सुप्रीम कोर्ट द्वारा मंजूर लोढ़ा समिति की सिफारिशों के मुताबिक नहीं हैं. इसमें  पहला बिदु हर बदलाव के लिए सुप्रीम कोर्ट के पास जाना है. अधिकारियों को लगता है कि यह संभव नहीं है.

यह भी पढ़ें: कप्तान रोहित शर्मा ने किया ऋषभ पंत का समर्थन, की यह खास अपील

प्रस्ताव में लिखा है, "बीसीसीआई के संविधान में यह उपलब्धता है कि किसी भी तरह के बदलाव के लिए सुप्रीम कोर्ट की मंजूरी की जरूरत होगी. यह लोढ़ा समिति की सिफारिशों में नहीं था. यह सुप्रीम कोर्ट के 18 जुलाई 2016 के फैसले में भी नहीं था. इससे अधिकारियों के सही बदलाव करने के अधिकार को लागू करने के लिए उसे हर बार सुप्रीम कोर्ट की मंजूरी लेनी होगी." दूसरा बिंदू कूलिंग ऑफ पीरियड को लेकर है. इसमें आगे लिखा है, "कूलिंग ऑफ पीरियड के मुताबिक वो अधिकारी जो बीसीसीआई या उसके सदस्य संघ में छह साल तक रहा हो वह छह साल बाद कूलिंग ऑफ पीरियड में चला जाएगा. यह नियम कई प्रतिभाशाली लोगों को चुनने में बाधा साबित हो रहा है"

यह भी पढ़ें: बांग्लादेशी कोच ने तीसरे टी20 से पहले टीम रोहित को दिया यह चैलेंज

तीसरा बिंदु सदस्यों की अयोग्यता का है. अधिकारियों को लगता है कि मौजूदा स्थिति में अनुभव की कमी होना बड़ा मुद्दा है, खासकर अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) में बीसीसीआई के प्रतिनिधित्व को लेकर. प्रस्ताव में लिखा है, "अयोग्यता का नियम बहुत बड़ा है. अगर कोई इंसान बिना ज्यादा अनुभव के बीसीसीआई का प्रतिनिधित्व आईसीसी में करता है तो अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भारत के योगदान को ज्यादा पहचान नहीं मिलेगी. इसलिए बीसीसीआई के हितों को बचाते हुए यह जरूरी है कि आईसीसी में अपनी बात को साफ रखने के लिए अनुभवी लोग हों. साथ ही आईपीएल गर्विनंग काउंसिल के सदस्यों पर प्रतिबंध लगाने का कोई कारण नहीं क्योंकि वह भी बीसीसीआई की समिति है"

VIDEO: हालिया दक्षिण अफ्रीका दौरे में दूसरे टेस्ट से पहले प्रेस कॉन्फ्रेंस में विराट कोहली. 

अगल मुद्दा सचिव की स्थिति को लेकर है. अधिकारियों को लगता है कि मौजूदा समय में सचिव के पद पर दोबारा विचार करने की जरूरत है. वहीं नए अधिकारियों ने माना है कि रोजमर्रा के कामकाज के लिए मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) को पावर देनी चाहिए.
 

Comments
हाईलाइट्स
  • कूलिंग पीरियड को लेकर भी होगी चर्चा
  • सदस्यों की अयोग्यता को लेकर भी होगी बात
  • आईसीसी में प्रतिनिधित्व के लिए अनुभवी लोग हों
संबंधित खबरें
CoA ने की थी जिस ट्रेनर की उपेक्षा, उसी के मार्गदर्शन में रिहैब कर रहे Jasprit Bumrah
CoA ने की थी जिस ट्रेनर की उपेक्षा, उसी के मार्गदर्शन में रिहैब कर रहे Jasprit Bumrah
Sourav Ganguly का खुलासा, मुश्‍ताक अली टूर्नामेंट के दौरान बुकी ने एक ख‍िलाड़ी से क‍िया था संपर्क..
Sourav Ganguly का खुलासा, मुश्‍ताक अली टूर्नामेंट के दौरान बुकी ने एक ख‍िलाड़ी से क‍िया था संपर्क..
सौरव गांगुली ने चयन समिति के कार्यकाल को लेकर स्पष्ट की बीसीसीआई की राय, लेकिन....
सौरव गांगुली ने चयन समिति के कार्यकाल को लेकर स्पष्ट की बीसीसीआई की राय, लेकिन....
BCCI AGM Update: अब अमित शाह के बेटे जय शाह करेंगे आईसीसी की बैठकों में बीसीसीआई का प्रतिनिधित्व
BCCI AGM Update: अब अमित शाह के बेटे जय शाह करेंगे आईसीसी की बैठकों में बीसीसीआई का प्रतिनिधित्व
BCCI AGM: इन अहम मुद्दों पर चर्चा होगी सौरव गांगुली के अगुवाई वाले बीसीसीआई की आम सालाना बैठक में
BCCI AGM: इन अहम मुद्दों पर चर्चा होगी सौरव गांगुली के अगुवाई वाले बीसीसीआई की आम सालाना बैठक में
Advertisement