CWG 2018: हीना सिद्धू को 6 साल की उम्र में किसने पकड़ा दी थी बंदूक, गोल्ड मेडल तक का सफर

Updated: 01 May 2018 14:35 IST

CWG 2018 में हीना सिद्धू ने शूटिंग में गोल्ड मेडल जीता. हीना का बचपन हमेशा बंदूकों के बीच रहा. जब वो 6 साल की थीं तो एक दिन चाचा इंदरजीत सिंह के पास एक गन आई.

CWG 2018: A great Success story of Gold madalist heena sidhu
CWG 2018 में हीना सिद्धू ने शूटिंग में गोल्ड मेडल जीता.

नई दिल्ली:

हीना सिद्धू का नाम कॉमनवेल्थ में भारत के लिए गोल्ड जीतने के बाद इतिहास में दर्ज हो चुका है. सिद्धू ने शूटिंग में गोल्ड मेडल जीता है. 25 मीटर पिस्टल वर्ग में उन्होंने शानदार खेल दिखाते हुए पहला नंबर हासिल किया. इस वर्ग में ऑस्ट्रेलिया की एलेना गैलीबोविच को रजत पदक और मलेशिया की आलिया सजाना अजाहारी ने कांस्य पदक जीता. इससे पहले भी हीना रजत पदक जीत चुकी हैं. काफी कम लोग ही जानते होंगे कि शूटर के साथ-साथ हीना एक डेंटिस्ट हैं. उनकी लाइफ भी काफी स्टाइलिश है. लेकिन उन्होंने अपने शुरुआती दिनों में काफी मेहनत की है. काफी कड़ी मेहनत और लगन के बाद उन्हेंय यह सफलता हासिल हुई है. 
 

heena sidhu


हीना का बचपन हमेशा बंदूकों के बीच रहा. जब वो 6 साल की थीं तो एक दिन चाचा इंदरजीत सिंह के पास एक गन आई. वो गन रिपेयर का काम करते थे. उस गन को चलाने के लिए हीना जिद करने लगीं. चाचा ने उनको गन थमा दी. वो अपने घर की छत पर बंदूक से ईटों पर निशाना मारा करती थी. वैसे हीना डॉक्टर बनना चाहती थीं. वो डेंटिस्ट भी बनीं. लेकिन वो शूटिंग को दूर नहीं कर पाईं. उन्होंने फिर शूटिंग में ही करियर बनाने का सोचा. 

heena sidhu


साल दर साल हीना का खेल शानदार होता गया और वो नए मुकाम हासिल करती गईं और वो पल आ गया जब वो वर्ल्ड नंबर वन बन गईं. अंजली भागवत के बाद वो देश की पहली महिला शूटर रहीं. जिन्होंने 2013 में शूटिंग वर्ल्ड कप टूर्नामेंट में गोल्ड मेडल हासिल किया. हीना पटियाला की रहने वाली हैं. उनके पिता रणबीर सिंह भी नेशनल शूटर रह चुके हैं. 2013 को हिना ने रौनक पंडित से शादी की, जो खुद इंटरनेशनल शूटर हैं। रौनक उनके कोच भी हैं. हालांकि हिना के एक्रिडिटेड कोच कोई और हैं. 

Comments
हाईलाइट्स
  • CWG 2018 में हीना सिद्धू ने शूटिंग में गोल्ड मेडल जीता.
  • उन्होंने 25 मीटर पिस्टल वर्ग में निशाना साधा.
  • हिना 10 मीटर में एयर पिस्टल वर्ग में रजत पदक जीत चुकी हैं.
संबंधित खबरें
कॉमनवेल्थ गेम्‍स 2018 में मिले मेडल्‍स से क्‍या बदल पाएगी टेबल टेनिस की तकदीर
कॉमनवेल्थ गेम्‍स 2018 में मिले मेडल्‍स से क्‍या बदल पाएगी टेबल टेनिस की तकदीर
बैडमिंटन कोच विमल कुमार ने बताया, इस मामले में थोड़ी कमजोर हैं पीवी सिंधु...
बैडमिंटन कोच विमल कुमार ने बताया, इस मामले में थोड़ी कमजोर हैं पीवी सिंधु...
Advertisement