Asian Games 2018: विनेश फोगाट ने कुश्ती में स्वर्ण जीत कर रचा इतिहास

Updated: 21 August 2018 10:22 IST

Asia Games 2018: दीपक ने पहली बार एशियाई खेलों में पदक हासिल किया है. इससे पहले, क्वालिफिकेशन में दीपक को पांचवां स्थान हासिल हुआ था, वहीं रवि ने चौथा स्थान हासिल किया था. फाइनल में एक समय पर दीपक बाहर होने की कगार पर थे, लेकिन उन्होंने शानदार वापसी करते हुए अच्छा प्रदर्शन कर ताइवान लु शाओचुआन को मात देते हुए रजत पर कब्जा जमाया

Asian Games 2018 Day 2, Live updates jakarta Indonesia 20th August
Asian Games: विनेश फोगाट पर सभी की नजरें टिकी हैं.

जकार्ता:

भारत ने इंडोनेशिया की राजधानी जकार्ता में आयोजित हो रहे 18वें एशियाई खेलों  (India 2nd day In Asia games 2018)) के पहले दिन बजरंग पूनिया के सोना झटकने के बाद सोमवार को दूसरे दिन भारत ने महिला वर्ग में भी अपनी ताकत दिखाते हुए स्वर्ण पदक जीत लिया. यह पदक विनेश फोगाट (Vinesh Phogat won the Gold in Asian games) ने 50 किग्रा भार वर्ग में जीता. विनेश ने जापानी प्रतिद्वंद्वी री युकी को 6-2 से चित कर दूसरा को दूसरा स्वर्ण और कुल मिलाकर पांचवा पदक दिला दिया. इसी के साथ ही विनेश एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला पहलवान बन गई हैं. पिछले एशियाई खेलों में कांस्य जीतने वाली विनेश ने इन खेलों में शानदार प्रदर्शन कर अपने पदक का रंग बदला. भारत की महिला कुश्‍ती में कांस्‍य पदक जीतने की उम्‍मीद उस समय धराशायी हो गई जब पूजा ढांडा फ्रीस्‍टाइल कुश्‍ती के 57 किलो वर्ग में कांस्‍य पदक का मुकाबला जापान की कातसुकी साकागामी से हार गईं. जापानी रेसलर ने यह मुकाबला 6-1 से जीता.ओलिंपिक खेलों की कांस्‍य पदक विजेता साक्षी मलिक भी एशियन गेम्‍स में कांसे का पदक जीतने से चूक गईं. महिला वर्ग की फ्रीस्‍टाइल इवेंट के 62 किलोवर्ग में साक्षी को कोरिया की जांगे सिम रिम ने 2-12 से शिकस्‍त दी. (पदक तालिका यहां देखें)

 

इससे बहले सोमवार सुबह पदक झटने की शुरुआत शूटरों ने की. सुबह दीपक कुमार ने 10 मी. एयर रायफल में रजत पर निशाना साधा, तो हरियाणा के युवा 19 साल के लक्ष्य श्योराण ने शूटिंग के ट्रैप वर्ग में ही रजत कब्जाते हुए भारत को सोमवार को चौथा पदक दिला दिया. दूसरी ओर महिला कुश्ती में विनेश फोगाट ने 50 किग्रा वर्ग के फाइनल में पहुंचकर रजत पदक सुनिश्चित किया. विनेश ने उज्बेकिस्तान की याकशिमुरातोवा डाउलेटबिके को तकनीकी सुपरियॉरिटी में 10-0 से हराकर सोने की जंग की पटकथा लिख दी. हालांकि, पूजा ढांडा और साक्षी मलिक सेमीफाइनल में अपने-अपने वर्गों में हार गईं. लेकिन ये दोनो ही खिलाड़ी रिपेज राउंड के जरिए कांस्य पदक की होड़ में बनी हुई हैं. पुरुष वर्ग में सुमित मलिक ने भी रेपचैज के दूसरे राउंड में अपना मुकाबला जीतकर कांस्य पदक की लड़ाई लड़ना सुनिश्चित कर लिया है.

इससे पहले महिला कुश्ती में विनेश फोगाट ने 50 किग्रा और पूजा ढांडा ने 57 किग्रा और साक्षी मलिक ने 62 किग्रा भार वर्ग के सेमीफाइनल में प्रवेश किया. बहरहाल सुबह पदकों की संख्या को सुबह आगे बढ़ाया दीपक कुमार (Deepak Kumar won Silver) ने जिन्होंने पुरुषों की 10 मी. एयर रायफल में रजत पदक जीता. इससे पहले रविवार को भारत को बजरंग पूनिया ने कुश्ती और शूटर अपूर्वी चंदेला और रवि कुमार ने 10 मी. एयर रायफल के मिक्स्ड टीम वर्ग में रजत पदक दिला था.

वहीं, महिलाओं की ट्रैप प्रतिस्पर्धा के फाइनल में पहुंच उम्मीद जगाने वालीं सीमा तोमर भी फाइनल में पदक से चूक गई हैं. उनसे पहले10 मी. एयर रायफल के फाइनल में पहुंचीं अपूर्वी चंदेला भी फाइनल में पदक से चूक गई थीं. कुश्ती के पहले राउंड की बात करें, तो पुरुषों के उलट महिला कुश्ती में भारत ने जीत के साथ आगाज किया था. विनेश फोगाट ने 50 किग्रा और पूजा ढांडा ने 57 किग्रा और साक्षी मलिक ने 62 किग्रा भार वर्ग क्वार्टरफाइनल में जगह बनाई, पर पिंकी को 53 किग्रा वर्ग में हार का सामना करना पड़ा है. कुश्ती के पुरुष वर्ग में भी 125 किग्रा कैटेगिरी में सुमित मलिक अपना मुकाबला हार गए, लेकिन रेपचैज राउंड के लिए वह होड़ में बने रहे. बैडमिंटन में महिला टीम को टीम वर्ग में जापान के हाथों 3-1 से हार का मुंह देखना पड़ा है. 

शूटिंग

युवा लक्ष्य श्योरहाण ने सोमवार को पुरुषों की ट्रैप स्पर्धा के फाइनल में दूसरा स्थान हासिल करते हुए रजत पदक पर कब्जा जमाया, भारत के ही मानवजीत संधू भी एक समय पदक की दौड़ में थे, लेकिन 35 शॉट में उन्होंने कुल 26 का स्कोर किया था और इस वजह से वह पदक की दौड़ से बाहर हो गए. लक्ष्य ने कुल 50 शॉट्स में 43 सटीक निशाने लगाए. इस स्पर्धा की स्वर्ण चीनी ताइपे के कुंपी यांग ने जीता। उन्होंने 48 का स्कोर किया. कांस्य पदक दक्षिण कोरिया के अहन डाएमयोंग के नाम रहा, जिन्होंने 30 का स्कोर किया. मानवजीत संधू पहले ही एलिमिनेट होकर पदक की दौड़ से बाहर हो गए थे. 

इससे पहले सुबह दीपक ने फाइनल में 247.1 अंक हासिल कर रजत पदक पर कब्जा जमाया. यह एशियाई खेलों के दूसरे दिन भारत की झोली में गिरा पहला पदक है. दीपक ने पहली बार एशियाई खेलों में पदक हासिल किया है. इससे पहले, क्वालिफिकेशन में दीपक को पांचवां स्थान हासिल हुआ था, वहीं रवि ने चौथा स्थान हासिल किया था. फाइनल में एक समय पर दीपक बाहर होने की कगार पर थे, लेकिन उन्होंने शानदार वापसी करते हुए अच्छा प्रदर्शन कर ताइवान लु शाओचुआन को मात देते हुए रजत पर कब्जा जमाया. इस स्पर्धा का स्वर्ण पदक चीन के यांग हाओरान ने जीता है, वहीं कांस्य शाओचुआन को मिला है.

महिलाओं की 10 मी. एयर रायफल के  फाइनल में अपूर्वी चंदेला पदक से चूक गईं. अपूर्वी ने फाइनल में 168.0 का स्कोर किया और उन्हें पांचवें स्थान से संतोष करना पड़ा. इससे पहले क्वालीफाइंग राउंड में अपूर्वी चंदेला ने 629.4 अंक हासिल करते हुए दूसरा स्थान प्राप्त किया था. इस वर्ग का स्वर्ण पदक चीन की झाओ रोझु ने एशियाई रिकॉर्ड के साथ कब्जाया. उन्होंने  250.9 का स्कोर किया.

ट्रैप के शुरुआती मुकाबलों की बात करें, तो मानवजीत सिंह संधू और लक्ष्य ने अपने अच्छे प्रदर्शन के साथ पुरुषों की ट्रैप निशानेबाजी स्पर्धा के फाइनल में प्रवेश किया. मानवजीत ने दूसरे क्वालिफिकेशन में पहला और लक्ष्य ने चौथा स्थान हासिल किया. इस स्पर्धा के दूसरे क्वालिफिकेशन में मानवजीत ने कुल 119 अंकों के साथ शूट-ऑफ में 12 अंक लेकर पहला स्थान हासिल करने के साथ पहला स्थान प्राप्त किया. लक्ष्य ने 119 अंक हासिल किए, लेकिन शूट-ऑफ में उन्हें अंक हासिल नहीं हुए लेकिन इसके बावजूद वह फाइनल के लिए क्वालीफाई कर गए. इस सूची में दक्षिण कोरिया के जिवोन इयुम को दूसरा और उनके हमवतन दाएमयोंग एएचएन को तीसरा स्थान हासिल हुआ. शूटिंग के महिला वर्ग की ट्रैप कैटेगिरी में सीमा तोमर ने पदक की उम्मीद को बरकरार रखते हुए ट्रैप स्पर्धा के फाइनल में प्रवेश किया था, लेकिन वह फाइनल में पदक से चूक गईं

कुश्ती

कुश्ती की बात करें, तो फाइनल में विनेश ने पहले राउंड में आते ही चार अंक ले लिए और जापानी खिलाड़ी पर दबाव बना दिया. विनेश ने पहले राउंड में 4-0 की बढ़त ले ली थी. दूसरे राउंड में विनेश ने समय बिताते हुए शानदार डिफेंस के साथ अपनी बढ़त को कायम रख स्वर्ण जीता और जापानी खिलाड़ी को सिर्फ एक अंक ही मिला. अंतिम 30 सेकेंड में विनेश ने दो अंक लेते हुए अपनी ऐतिहासिक जीत सुनिश्चित की. इससे पहले विनेश ने फाइनल में जगह बनाई थी. वहीं, रियो ओलिंपिक की कांस्य पदक विजेता साक्षी मलिक और राष्ट्रमंडल खेलों की रजत पदक विजेता पूजा ढांडा को सेमीफाइनल में हार का सामना करना पड़ा है. ये दोनों खिलाड़ी हालांकि कांस्य पदक के मैच में उतरेंगी. पैर में दर्द की समस्या के बावजूद विनेश ने अपनी क्षमता को बनाए रखते हुए उज्बेकिस्तान की दाउलेतबाइक वाई. को सेमीफाइनल में टेक्निकल सुपिरियॉरिटी के आधार पर 10-0 से करारी शिकस्त दी. विनेश ने इंचियोन एशियाई खेलों में कांस्य जीता था. इसके अलावा वह 2018 एशियाई चैंपियनशिप में रजत तथा 2018 राष्ट्रमंडल खेलों में स्वर्ण पदक जीत चुकी हैं.

ओलंपिक कांस्य पदक विजेता साक्षी को सेमीफाइनल में किर्गिस्तान की आइसुलु तेनीबेकोवावा से 8-7 से हारकर फाइनल में जाने से महरूम रह गईं. साक्षी ने अपनी विपक्षी खिलाड़ी पर हावी होने की कोशिश की लेकिन उनके दांव उन पर ही भारी पड़ गई. तेनीबेकोवा साक्षी पर 6-4 की बढ़त ले ली थी. साक्षी ने हालांकि वापसी करने की कोशिश की लेकिन अंत में वह एक अंक के अंतर से मुकाबला हार गईं. एक और पदक की दावेदार पूजा ढांडा को उत्तर कोरिया की मयोंग सुक जोंक ने महिलाओं की 57 किलोग्राम भारवर्ग फ्रीस्टाइल स्पर्धा के सेमीफाइनल में 10-0 से मात देकर फाइनल में जगह बनाई. इन दोनों के बीच इससे पहले हुए मुकाबले में भी पूजा को इसी स्कोर से हार का सामना करना पड़ा था. पहले राउंड की शुरुआत में पूजा ने आक्रामक खेल खेलने की कोशिश की, लेकिन कोरियाई खिलाड़ी ने उन्हें हावी नहीं होने दिया और बाहर भेजते हुए पहले दो अंक लिए और फिर एक अंक का दांव लगाकर पहले राउंड का समापन 3-0 की बढ़त के साथ किया. दूसरे राउंड में पूजा कोरियाई पहलवान के सामने बिल्कुल भी नहीं टिक पाईं और जोंग ने इस राउंड में सात अंक और लेकर तकनीकी दक्षता के आधार पर यह मैच अपने नाम कर पूजा को पिछली हार का बदला नहीं लेने दिया. 

पिंकी को इस स्पर्धा के प्री-क्वार्टर फाइनल में मंगोलिया की सुमिया एर्डेसकिमेग ने 0-10 से हराया. पहले ही दौर में मंगोलिया की पहलवान पिंकी पर भारी नजर आईं और ऐसे में डिफेंस का मौका न देते हुए उन्होंने भारतीय महिला पहलवान को 5-0 से पीछे कर दिया. दूसरे दौर में भी पिंकी को सुमिया के आगे कमजोर देखा गया और वह उनकी रणनीति के नहीं समझ सकीं और अंत में 0-10 से हार गईं. सुमिया अगर इस स्पर्धा के फाइनल में पहुंच जाती हैं, तो पिंकी को रीपचेज खेलने का मौका मिल सकता है.

पुरुष वर्ग में भारतीय पहलवान सुमित कुमार ने 125 किलोग्राम भारवर्ग फ्री स्टाइल स्पर्धा के कांस्य पदक के मुकाबले में जगह बना ली है. सुमित ने रेपचेज राउंड में कजाकिस्तान के बोलटिन ओलेग को 7-0 से मात देकर कांस्य पदक की उम्मीदों को जिंदा रखा है. सुमित को प्री-क्वार्टर फाइनल में ईरान के परवेज हादिवासमंज के हाथों 0-10 से हार का सामना करना पड़ा था. परवेज ने फाइनल में जगह बनाई और इसी कारण सुमित को रेपचेज राउंड खेलने का मौका मिला. सुमित ने अच्छी शुरुआत करते हुए ओलेग को पीली रेखा के बाहर ले जाकर दो अंक लिए और फिर उन्हें पलट कर दो अंक और जुटाए। पहले राउंड में सुमित 4-0 से आगे थे.दूसरे राउंड में सुमित ने तीन अंक और लेकर अपनी बढ़त को 7-0 कर लिया और इसे बनाए रखते हुए जीत हासिल की. कांस्य पदक के लिए सुमित का सामना उज्बेकिस्तान के डेविट मोडजमानाशविलि से हो


बैडमिंटन

पीवी सिंधू ने दुनिया की नंबर एक खिलाड़ी अकाने यामागुची को हराया लेकिन खराब फार्म से जूझ रही सायना नेहवाल चार मैच अंक बचाने के बावजूद नोजोमी ओकुहारा से हार गई जिससे भारत एशियाई खेलों की महिला टीम बैडमिंटन स्पर्धा से बाहर हो गया. भारतीय महिला टीम ने इंचियोन में चार साल पहले कांस्य पदक जीता था. भारतीय टीम क्वार्टर फाइनल में दुनिया की सबसे मजबूत टीम से हार गई. सिंधू और यामागुची के बीच मुकाबला नजदीकी था लेकिन सिंधू ने 21-18, 21 . 19 से जीत दर्ज की .उसने 41 मिनट तक चला मुकाबला जीतकर भारत को बढ़त दिलाई. वह विश्व चैंपियनशिप में भी यामागुची को हरा चुकी है. एन सिक्की रेड्डी और अराती सुनील को युकी फुकुशिमा और सायाका हिरोता ने 21-15, 21- 6 से हराया.

दूसरे महिला एकल मुकाबले में सायना ने शानदार वापसी करके दूसरे गेम में चार मैच अंक बचाए लेकिन एक घंटे 11 मिनट तक चला मुकाबला 11-21, 25-23, 16-21 से हार गईं. शुरुआत में सायना ने कई सहज गलतियां की जबकि ओकुहारा काफी लय में थी. इसके बावजूद सायना ने दूसरे गेम में वापसी की लेकिन निर्णायक गेम में लय कायम नहीं रख सकीं. करो या मरो के चौथे मुकाबले में सिंधू और अश्विनी पोनप्पा को मिसामी मत्सुतोमो और अयाका ताकाहाशी ने 21-13, 21-12 से हराया 

कबड्डी
भारतीय महिला कबड्डी टीम ने अपने विजयी रथ को आगे बढ़ाते हुए सोमवार को थाईलैंड की टीम को मात दी. भारत ने ग्रुप-ए में थाईलैंड को फाइनल मुकाबले में 33-23 से मात दी. इससे पहले टीम ने रविवार को जापान को 43-12 से हराया था.पायल चौधरी की कप्तानी में भारतीय महिला टीम ने शुरुआत से ही इस मैच पर अपनी पकड़ बनाए रखी थी. वह थाईलैंड के डिफेंस पर अपना वार बराबर कर रही थी और इसी के तहत उसने शुरुआत में 8-4 से बढ़त बनाई. अपने रेडरों के आक्रामक प्रदर्शन और डिफेंडरों के बचाव के अच्छे कौशल के दम पर आखिर में भारतीय टीम ने इस मैच में 33-23 से जीत हासिल की. 

VIDEO: सुशील कुमार की हार से भारतीय खेलप्रेमी हैरान हैं.

रविवार को पहले दिन भारत को पहलवानों ने बहुत ज्यादा निराश किया था. हालांकि, महिलाओं से पुरुषों की तुलना में उम्मीदें ज्यादा थीं. वो उम्मीदें पुरुषों की तरह पूरी तो नहीं हुईं. लेकिन विनेश फोगाट ने वही काम किया, जो पहले दिन बजरंग पूनिया ने किया था. 

Comments
हाईलाइट्स
  • दूसरे दिन की समाप्ति पर भारत के पदकों की संख्या हुई पांच
  • विनेश एशियाई खेलों में स्वर्ण जीतने वाली पहली भारतीय पहलवान
  • दीपक कुमार ने दिलाया रजत पदक
संबंधित खबरें
ध्‍वजवाहक होने के नाते एशियन गेम्‍स में मुझ पर पदक जीतने का ज्‍यादा दबाव था: नीरज चोपड़ा
ध्‍वजवाहक होने के नाते एशियन गेम्‍स में मुझ पर पदक जीतने का ज्‍यादा दबाव था: नीरज चोपड़ा
'इस कारण' एशियन गेम्स पदक विजेता दिव्या काकरान ने अरविंद केजरीवाल को सुनाई खरी-खरी
Asian Games 2018: स्‍वप्‍ना बर्मन बोली,
Asian Games 2018: स्‍वप्‍ना बर्मन बोली, 'कोच सर ने कहा था-अपने ऊपर भरोसा रख, तुम पदक जीतोगी'
Asian Games: बॉक्‍सर विजेंदर सिंह की मांग,
Asian Games: बॉक्‍सर विजेंदर सिंह की मांग, 'स्‍वर्ण विजेता स्‍वप्‍ना की इनामी राशि बढ़ाए बंगाल सरकार'
Asian Games 2018:
Asian Games 2018: 'यह भारतीय गायक' समापन समारोह में इंडोनेशिया में छा गया
Advertisement
ss